जिला अस्पताल में सुविधा न मिलने से मौत

क्राइम प्रदेश राज्य

सुरेन्द्र त्रिपाठी

बुजुर्ग की मौत
जिला अस्पताल में सुविधा न मिलने से मौत
उमरिया 13 अगस्त – म. प्र. शासन के द्वारा प्रदेश के हर जिला अस्पताल को आधुनिक एवं हर व्यवस्थाओं से परिपूर्ण करने के लिए करोड़ो रुपये खर्च किये जाते है, लेकिन जमीनी हकीकत में सब कुछ खोखला है, डाक्टर एसी कमरों में बैठे रहते हैं और छोटे कर्मचारी उनकी अर्दलीगिरी करने मे जुटे रहते है तो वहीं गरीब आदमी इनके कार्यालयों के चक्कर काटते नजर आते हैं।
मामला है उमरिया जिला अस्पताल का है जहां पर एक बुजुर्ग अव्यवस्था का शिकार होकर दम तोड़ दिया, बुजुर्ग के परिजन डाक्टर की तलाश करते रहे और डाक्टर अपनी फारमल्टी में व्यस्त नजर आये। दरअसल हुआ यूं था कि सीने में दर्द की शिकायत लेकर इलाज कराने जिला अस्पताल पहुंचे खुशी लाल विश्वकर्मा को आटो से उतारा तो जरुर गया पर अस्पताल में वार्डबॉय और स्ट्रेचर नदारद रहे, जिसके कारण बुजुर्ग मरीज ने अस्पताल की चौखट में ही दम तोड़ दिया।

मृतक के पुत्र
राजू प्रसाद विश्वकर्मा ने बताया कि हम अपने पिताजी को लेकर जिला अस्पताल आये तो यहां न कोई वार्ड बॉय मिला न ही स्ट्रेचर, हम हड्डी वाले डॉक्टर सोनी के पास गए तो हमको इमरजेंसी में जाने को बोल कर गायब हो गए, अगर हमको सुविधा मिल जाती तो हमारे पिताजी बच जाते।
इस घटना के बाद जहां परिजनों ने जिला अस्पताल में जमकर हंगामा किया वहीं सिविल सर्जन वार्डबॉयों को बचाते हुए गलतियों पर पर्दा डालते तो नजर आया लेकिन सिविल सर्जन डॉक्टर बी के प्रजापति स्वीकार भी किये कि हम देखते हैं और व्यवस्था सुधारने की जरूरत है। हद तो तब हो गई जब जिला अस्पताल में होने वाले हर रोज के ऐसे घटनाक्रम पर जहां जिला प्रशासन को कार्यवाही करनी चाहिए लेकिन जनसंपर्क के माध्यम से सोशल मीडिया में ऐसी अव्यवस्थाओं की खबरों पर कार्यवाही करने की बजाय उल्टे मीडिया की हर एक खबर पर खंडन की खबरें छपवाई जाती है, जो स्वमेव ही जिला अस्पताल और जिला प्रशासन की नाकामी का जीता जागता सबूत है।
गौरतलब है कि जिला प्रशासन मीडिया में दिखाई जा रही खबरों को झूठा बता रहा है तो वहीं लाखों की दवा जहां रखी है उस कमरे की छप्पर टूटी हुई है और पूरा पानी उन्ही दवाओं पर गिर रहा है, बाद में वही खराब दवाएं मरीजों को खिलाई जाएंगी, लेकिन सरकार के ईमानदार नुमाइंदों को यह बरबादी नजर नही आ रही है। नजर आ रही है बस मीडिया में दिखाई जाने वाली खबरों के विरोध में अपनी ईमानदारी प्रदर्शित करना।
राजू प्रसाद विश्वकर्मा मृतक का पुत्र
डॉक्टर बी के प्रजापति सिविल सर्जन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *