यातायात पुलिस की कारगुजारी

क्राइम राज्य

यातायात पुलिस की कारगुजारी

उमरिया 25 अक्टूबर – जिले में यातायात पुलिस का वसूली अभियान जारी। ओव्हर लोड वाहनों के नाम पर खड़ा कराये पी डी एस का अनाज लोड वाहन वहीं हाइवे में 500 रुपये लेकर निकाल रहे वाहनों को।
आइए आपको दिखाते हैं उमरिया जिले की यातायात पुलिस की कारगुजारी। ये एन एच 43 में अमहा के पास रात में वाहन चेकिंग के नाम पर वसूली अभियान जारी है। जब हमारी टीम वहां पहुंची तो ट्रक वाले की रसीद काटने लगे जबकि पहले से खड़े वाहनों से सौदेबाजी चल रही थी। शहडोल निवासी वाहन चालक बाल किशन दुबे ने बताया कि इस समय यातायात वालों से इतना परेशान हैं कि कुछ न पूँछिये, आपके पास कागज हो न हो पांच सौ रुपये से मतलब है। रोड में चलना गुनाह हो गया है, डीजल पेट्रोल का रेट आसमान पर है, सुबह बुढार जा रहा था तो लालपुर के पास पुलिस मिली, अभी आ रहा था तो नौरोजाबाद के पास पुलिस मिली, कटनी में आये दिन हर थानों के सामने खड़े रहते हैं। अभी हाइवे में लगे थे मेरे को नही रोके हैं लेकिन दो – चार गाड़ियां रुकी हैं। कागज हो या न हो उनको कोई मतलब नहीं है, उनको मतलब है तो केवल पैसे से, कागज से कोई मतलब नहीं है 500 से कम नही लेते हैं, नही तो बिना रसीद के दो – तीन सौ दे दो।
अब जरा दूसरा पहलू भी देखिए शहडोल में अनाज की रैक लगने के बाद उमरिया जिले के लिए उचित मूल्य दुकान में गरीबों को बांटने के लिए अनाज नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा 13 ट्रकों में भर कर वेयर हाउस एंड लॉजिस्टिक कारपोरेशन के गोदाम में भण्डार के लिए आया, कल रविवार होने के कारण गेंहू खाली नही हो सका और आज सभी अपने नम्बर का इंतजार करते खड़े रहे तभी यातायात पुलिस का कहर टूट पड़ा और सभी ट्रकों को पुलिस कंट्रोल रूम परिसर और उसके सामने खड़ा कर दिया गया। अब खुद सुनिये वाहन चालक वृंदावन पांडेय का कहना है कि हम लोगों के पास कोई काम नही था ठेकेदार ने कहा कि एफ सी आई का माल लेकर उमरिया जाना है, 13 हजार रुपया भाड़ा है, हमने कहा कि माल ज्यादा है कोई दिक्कत तो नही होगी तो कहे कि सरकारी काम है हमेशा ऐसे ही जाता है, कोई नही रोकता तो लेकर चले आये, पहले भरौला गोदाम गए तो वहां पर बताया गया कि वेयरहाउस जाओ तो हम लोग वहां चले आये गाड़ियां खड़ी थी गोदाम खुलने का इंतजार कर रहे थे और वेयरहाउस के सामने किसी अधिकारी, जज, कलेक्टर का बंगला रहेगा और गाड़ियां हॉर्न मारेगी तो आवाज आएगी ही वहां अधिकारी लोग देखे तो पुलिस को फोन कर दिए, पुलिस आई और हम लोगों को यहां लाकर खड़ी कर दिए, अब पुलिस कहती है गाड़ी कोर्ट से छूटेगी, अब 13 हजार का भाड़ा बना और 20 हजार जुर्माना होगा तो क्या होगा, डीजल भर का मुश्किल से भाड़ा मिलता है। ऐसे में या तो गोदाम दूसरी जगह हो या बंगला दूसरी जगह होना चाहिए। वहीं धर्मेन्द का कहना है कि 3 दिन से हम खड़े हैं अब हमारे पास खाने का भी पैसा नही बचा है, इतना ही नहीं गाड़ी खड़ी करवा कर यातायात पुलिस भी नदारद है। अब अगले दिन शायद कोई कार्रवाई की जाय।
वहीं जब इस मामले में जिले के एस पी प्रमोद कुमार सिन्हा से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि यदि कोई मेरे समक्ष आकर शिकायत करता है तो उस पर कार्रवाई होगी वैसे आपके द्वारा बात हमारे सामने लाई गई है हम इसकी जांच करवा कर कठोर दंडात्मक कार्रवाई करेंगे।

हाइवे में यातायात पुलिस
वाहन चालक बाल किशन दुबे
अनाज लोड गाड़ियां
वृंदावन पांडेय
धर्मेन्द्र
प्रमोद कुमार सिन्हा एस पी
वेयरहाउस गोदाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *